धार्मिक आस्‍था vs सुप्रीम फैसला! जानें- सबरीमाला मंदिर में फसाद की जड़

धार्मिक आस्‍था vs सुप्रीम फैसला! जानें- ...

 

 

धार्मिक आस्‍थाएं श्रेष्‍ठ हैं या परंपराओं को तोड़ने वाल सर्वोच्‍च अदालत का सुप्रीम फैसला। यह कानूनविदों और आस्‍थावान लोगों के बीच एक बहस का विषय हो सकता है। लेकिन इसे लेकर देश में एक बड़ा तबका इस फैसले के खिलाफ खड़ा हो गया है। अब यह देखना दिलचस्‍प होगा कि सबरीमाला मंदिर में ऊंट किस करवट बैठता है। हालांकि, इस मामले को लेकर सियासत भी शुरू हो गई है। आइए एक बार फ‍िर आपको बताते हैं सारे फसाद की जड़ में क्‍या है। आस्‍थावान लोग सुप्रीम फैसले के खिलाफ क्‍यों हैं।

सबरीमाला का मंदिर देश के केरल राज्‍य में स्थित है। इस मंदिर में दस से 50 साल तक की महिलाएं, जो रजस्वला हैं, उनके प्रवेश पर प्रतिबंध है। इसके पीछे यह मान्यता है कि इस मंदिर के मुख्य देवता अयप्पा ब्रह्मचारी थे। ऐसे में इस तरह की महिलाओं के मंदिर में जाने से उनका ध्यान भंग होगा। यहां सिर्फ छोटी बच्चियां और बूढ़ी महिलाएं ही प्रवेश कर सकती हैं। सबरीमाला मंदिर में हर साल नवम्बर से जनवरी तक, श्रद्धालु अयप्पा भगवान के दर्शन के लिए जाते हैं, बाकि पूरे साल यह मंदिर आम भक्तों के लिए बंद रहता है। भगवान अयप्पा के भक्तों के लिए मकर संक्रांति का दिन बहुत खास होता है, इसीलिए उस दिन यहां सबसे ज़्यादा भक्त पहुंचते हैं।
800 साल पुरानी प्रथा पर देश की शीर्ष अदालत ने अपना सुप्रीम फैसला सुनाते हुए नारियों को सबरीमाला मंदिर में जाने की इजाजत दे दी है। अब सबरीमाला मंदिर में महिलाएं भी भगवान अयप्‍पा के दर्शन कर सकती हैं।

मंदिर की इस प्रथा को शीर्ष अदालत की एक पीठ ने गैर कानूनी घोषित किया। आइए हम आपको बताते हैं केरल राज्‍य में स्थित इस सबरीमाला मंदिर का संपूर्ण इतिहास। मंदिर में आखिर महिलाओं के प्रवेश लिए क्‍यों था प्रतिबंध। सर्वोच्‍च अदालत के फैसले के पूर्व केरल हाई कोर्ट ने 1991 और 2015 में कहा था कि सबरीमला मंदिर को अपनी परंपराएं जारी रखने का अधिकार है। बाद में अदालत ने कहा कि रजस्वला महिलाओं के मंदिर में प्रवेश को लेकर लगी पाबंदी आयु पर आधारित है, महिलाओं को वर्ग मानते हुए नहीं। इस परंपरा में बदलाव लाने के लिए विद्वानों का एक दल नियुक्त करने की बात कही गई थी। लेकिन उस वक्‍त केरल सरकार ने अपने हलफनामे में सबरीमला मंदिर में महिलाओं के वर्ग को प्रवेश देने से मना करना सही नहीं है।पौराणिक कथाओं के अनुसार अयप्पा को भगवान शिव और मोहिनी (विष्णु जी का एक रूप) का पुत्र माना जाता है। इनका एक नाम हरिहरपुत्र भी है। हरि यानी विष्णु और हर यानी शिव, इन्हीं दोनों भगवानों के नाम पर हरिहरपुत्र नाम पड़ा। इनके अलावा भगवान अयप्पा को अयप्पन, शास्ता, मणिकांता नाम से भी जाना जाता है।

इनके दक्षिण भारत में कई मंदिर हैं उन्हीं में से एक प्रमुख मंदिर है सबरीमाला। इसे दक्षिण का तीर्थस्थल भी कहा जाता है।यह मंदिर केरल की राजधानी तिरुवनंतपुरम से 175 किलोमीटर दूर पहाड़ियों पर स्थित है। यह मंदिर चारों तरफ से पहाड़ियों से घिरा हुआ है। यहां आने वाले श्रद्धालु सिर पर पोटली रखकर पहुंचते हैं। वह पोटली नैवेद्य (भगवान को चढ़ाई जानी वाली चीज़ें, जिन्हें प्रसाद के तौर पर पुजारी घर ले जाने को देते हैं) से भरी होती है। यहां मान्यता है कि तुलसी या रुद्राक्ष की माला पहनकर, व्रत रखकर और सिर पर नैवेद्य रखकर जो भी व्यक्ति आता है उसकी सारी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

पिछले साल 13 अक्टूबर को सुप्रीम कोर्ट की तीन जजों की खंडपीठ ने अनुच्छेद-14 में दिए गए समानता के अधिकार, अनुच्छेद-15 में धर्म और जाति के आधार पर भेदभाव रोकने, अनुच्छेद-17 में छुआछूत को समाप्त करने जैसे सवालों सहित चार मुद्दों पर पूरे मामले की सुनवाई पांच जजों की संविधान पीठ के हवाले कर दी थी।

 

 


PostedOn: 16 Nov 2018 Total Views: 79




वाड्रा से बंद कमरे में ईडी के 4 अफसर दूस...

वाड्रा से बंद कमरे में ईडी के 4 अफसर दूसरे दिन भी ...

बीकानेर जमीन खरीद मामले में आजफिर सुबह रॉबर्ट वाड्रा ईडी (प्रवर्तन निदेशालय)दफ्तर पहुंचे। वाड्रा से एक अलग कमरे मे पूछताछ की जा रही है। जहां चारअधिकारियों के अलावा किसी को आने की इजाजत नही दी गई है। सुबह 10:30 बजे से शुरू हुई पूछताछ 1:30 बजे तक चली। इसके बाद वाड्रा को एक घंटे की मोहलत लंच के लिए दी ...

13 Feb 2019

राष्ट्रीय युवा संसद महोत्सव की शुरुआत

राष्ट्रीय युवा संसद महोत्सव की शुरुआत

12 जनवरी से 24 फरवरी तक चलेगा युवा संसद महोत्सव, इसका उद्घाटन खेल मंत्री राज्यवर्धन राठौड़ ने किया। जिला, राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर युवा संसद का आयोजन होगा इसमें 18 से 25 वर्ष के युवा हो सकते हैं शामिल। हर जिले में युवा संसद आयोजित करने के प्रधानमंत्री के सुझाव पर अमल करते हुए युवा कार्यक्रम और खेल...

13 Jan 2019

जम्मू कश्मीर के राजौरी में ताजा बर्फबारी...

जम्मू कश्मीर के राजौरी में ताजा बर्फबारी से आम जनज...

जम्मू कश्मीर के पीरपंजाल में मौसम की ताजा बर्फबारी हुई है जम्मू कश्मीर के राजौरी में भारी बर्फबारी हुई। सड़कों पर अब भी कई फीट तक बर्फ जमी है। भारी मशीनों के जरिए सड़कों से बर्फ हटाने का काम जारी है। बर्फबारी के कारण कई दिनों से गाड़ियों की आवाजाही ठप है। जम्मू कश्मीर के पीरपंजाल में मौसम की ताजा बर...

13 Jan 2019

चीन और अमेरिका के बीच व्यापार वार्ता

चीन और अमेरिका के बीच व्यापार वार्ता

अमेरिका और चीन के बीच जारी व्यापार युद्ध के समाधान के लिये दोनों देश के बीच जारी व्यापार वार्ता सकारात्मक संकेत के साथ समाप्त हो गई। दोनों देशों के उप-मंत्री स्तर की इस बातचीत में तमाम मसलों पर बात हुई । अमेरिका के व्यापार और विदेशी कृषि मामलों के सहायक मंत्री टेड मैक्किनी ने बातचीत पर कहा, ‘&...

13 Jan 2019

अमेरिका में आंशिक कामकाज बंदी का 22वां द...

अमेरिका में आंशिक कामकाज बंदी का 22वां दिन

अमेरिका में अर्थव्यवस्था बुरी तरह से प्रभावित होने का खतरा। राष्ट्रपति ट्रंप ने डेमोक्रेट सांसदों को वार्ता के लिए बुलाया अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने डेमोक्रेट्स सांसदों को अमेरिका-मेक्सिको सीमा पर दीवार बनाने के मुद्दे पर बने गतिरोध को दूर करने के लिए व्हाइट हाउस आकर वार्ता करने का न्यौत...

13 Jan 2019

अमेरिका में बर्फीले तूफान से भारी नुकसान

अमेरिका में बर्फीले तूफान से भारी नुकसान

अधिकारियों ने सड़कों पर काफी लंबे ट्रैफिक जाम की चेतावनी भी दी है जो कि आठ घंटे तक जारी रह सकता है। तूफान के और पूर्व दिशा में बढ़ने की संभावना है। अमरीका में आए एक बर्फीले तूफान ने भारी नुकसान पहुंचाया है। तूफान के चलते मिड वेस्ट और मिड अटलांटिक इलाकों समेत मिसोरी के कुछ हिस्सों में एक फुट तक की बर...

13 Jan 2019

जम्मू के नौशेरा सेक्टर में आइडी ब्लास्ट,...

जम्मू के नौशेरा सेक्टर में आइडी ब्लास्ट, धमाके में...

जम्मू के नौशेरा सेक्टर में आतंकियों के आइडी धमाके में दो जवान शहीद हो गए। नौशेरा, । जम्मू-कश्मीर में एक आइडी ब्लास्ट के चलते भारतीय सेना के 2 जवान शहीद हो गए हैं। समाचार एजेंसी एएनआइ के मुताबिक जम्मू के नौशेरा सेक्टर में पाकिस्तानी आतंकियों ने आइडी धमाका किया जिसके चलते सेना का एक मेजर और एक जवान शह...

12 Jan 2019

प्रदूषण पर अब राज्यों को भी दिखानी होगी ...

प्रदूषण पर अब राज्यों को भी दिखानी होगी सख्ती, हाई...

बढ़ते Pollution की चुनौतियों से निपटने की मुहिम में Central Goverment केंद्र सरकार ने राज्यों को भी जिम्मेदारी सौंपी है। जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। बढ़ते प्रदूषण की चुनौतियों से निपटने की मुहिम में केंद्र सरकार ने राज्यों को भी जिम्मेदारी सौंपी है। इसके तहत उन्हें सभी जिलों और नगरीय क्षेत्रों में इससे...

12 Jan 2019